सुकरात के तीन सवाल

0
20

सुकरात एक महान ज्ञानी थे। एक दिन कोई उन्हें देखने आया और उनसे कहने लगा:

  • क्या आप जानते हैं कि, मैंने आपके दोस्त के बारे में क्या सुना है?
  • ज़रा रुको – सुकरात ने कहा – इससे पहले कि तुम मुझे मेरे दोस्त के बारे में बताओ, मैं तुम्हारी परीक्षा करना चाहूँँगा, तीन सवालों से।

तीन सवाल? – उस व्यक्ति ने कहाँ

  • दूसरों के बारे में एक बात बताने से पहले यह जान लेना अच्छा है कि आप क्या कहना चाहेंगे? पहली सवाल सच्चाई है। क्या आपने सत्यापित किया है कि जो आप मुझे बताएंगे वह सच है? सुकरात ने पूछा।
  • नहीं! मैंने केवल इसके बारे में सुना है …
  • बहुत अच्छा। तो आप नहीं जानते कि यह सच है या झूठ। अब मैं आपसे दूसरा सवाल करता हूँ, जो अच्छाई की पुष्टि करेगा। क्या आप मुझे मेरे दोस्त के बारे में कुछ अच्छा बताना चाहते हैं?
  • नहीं! बल्कि इसके विपरीत – उसने कहा
  • तो तुम मुझे उसके बारे में बुरी बातें बताना चाहते हो और तुम सच भी नहीं जानते। हो सकता है कि आप अभी भी परीक्षा पास कर सकते हैं, तीसरी सवाल अभी बाकि है, जो आपकी बात की उपयोगिता को दर्शायेगा। क्या यह जानना मेरे लिए मददगार होगा है?
  • ज़रुरी नहीं। उसने उत्तर दिया
  • तो सुकरात ने फ़ौरन निष्कर्ष निकाला और कहने लगे – जो तुम मुझसे कहना चाहते थे वह न तो सत्य है, न अच्छा, न उपयोगी; आप मुझे क्यों बताना चाहते थे?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here