आर्य समाज मंदिर वार्षिक उत्सव अलवर

0
64

आर्य समाज मंदिर बजाजा बाजार, अलवर

निमंत्रण

आर्य समाज स्थापना दिवस पर आयोजित विशेष कार्यक्रम

(दिनांक 9 अप्रैल 2024, मंगलवार)

आगाम नव सम्वत्सर एवं वार्षिक उत्सव आर्य समाज मन्दिर, बजाजा बाजार, अलवर नव सम्वत्सर २०८१ के शुभागमन पर मंगलमय हार्दिक शुभकामनाएँ (चैत्र मास शुक्ल पक्ष प्रतिपदा वि. सम्वत् २०८१) आप सपरिवार सादर आमंजित हैं।

आपको यह जानकर प्रसन्नता होगी कि आर्य समाज स्थापना दिवस एवं वार्षिकोत्सव के अवसर पर विशेष यज्ञ श्री धर्मपाल आर्य एवं श्री रमेशचुघ के संरक्षण में आर्य समाज बाजाजा बाजार में अलवर की समस्त आर्य समाजों एवं आर्य शिक्षण संस्थाओं के सहयोग से दिनांक 9 अप्रैल 2024 को श्री सत्यवीर आर्य, प्रधान संचालक सार्वदेशिक आर्यवीर दल की अध्यक्षता में हर्षोल्लास पूर्वक मनाया जाएगा।

उपदेशक एवं यज्ञ के ब्रह्मा आचार्य श्री अवनीश मैत्रीः जयपुर होंगे। अतः इस अवसर पर आप सभी से अनुरोध है कि अपना पुनीत कर्त्तव्य समझकर परिवारजनों एवं इष्ट मित्रों सहित पधारने की कृपा करें। इस अवसर पर भजनोपदेशक मुनिश्री यादराम जी पधार रहें हैं।

-: कार्यक्रम :- दिनांक 9 अप्रैल 2024, मंगलवार विशेष यज्ञ. प्रातः 7.30 से 9 बजे तक

ओ३म् ध्वजारोहण ..प्रातः 9.15 बजे भजन एवं वेदोपदेश प्रात: 9.30 से 11.30 बजे तक

ऋषि लंगर दोप. 11.30 बजे से -:

इंजी. सुरेश दरगन प्रधान प्रेमलता प्रधाना महिला समाज भीमसेन सचदेवा, मुनिया यादव उप प्रधान विनीत तनेजा कोषाध्यक्ष सर्वेश आर्य मंत्री सार्थक गुप्ता आलोक छोकरा रेणु छोकरा अशोक छोकरा पुस्तकालय अध्यक्ष संगठनमंत्री सांस्कृतिक मंत्री (आर्य समाज बजाजा बाजार, अलवर) प्रदीप आर्य प्रधान कै. रघुनाथ सिंह उप प्रधान पं. शिव कुमार कौशिक बृजेन्द्रदेव आर्य मंत्री कोषाध्यक्ष (आर्य समाज स्वामी दयानन्द मार्ग, अलवर) कृष्ण लाल अदलखा प्रधान बृजेश मित्तल उप प्रधान ईश्वर चक्रवर्ती कोषाध्यक्ष धर्मवीर आर्य मंत्री जगदीश प्रसाद गुप्ता प्रधान (आर्य समाज अरावली विहार, अलवर) अशोक आर्य उप प्रधान कमला शर्मा निदेशक (आर्य कन्या विद्यालय समिति, अलवर)

यज्ञ व्यवस्था पं. धर्मेन्द्र शास्त्री श्रीमती रेखा छोकरा प्रतीक आर्य ओमवीर

समिति- रमेश दरगन, डॉ. महेन्द्र नाथ थरेजा, संतोष अरोड़ा, अंजु गुप्ता, रविन्द्र सचदेवा, सत्यपाल आर्य, विश्वबंधु आर्य, सुरेन्द्र सक्सेना, राजहंस शर्मा, रोशनलाल चक्रवर्ती, प्रेम बुट्टन, रविन्द्र आर्य, अनिल ढींगरा, सुरेन्द्र आर्य, ब्रह्मदत्त आर्य, नरेन्द्र गुप्ता, मुकेश गाँधी, संजीव खत्री, रामजीलाल आर्य, श्रीमती नारायणी देवी चुघ, डॉ. सरोज दरगन, कलावती, सत्यवती, ओमवती, सोनम आर्य, वीना दरगन, जयश्री सचदेवा, स्वदेश ढींगरा, डॉ. सविता थरेजा, शशि भार्गव, ईश्वरी देवी शर्मा, भागवन्ती मलिक, रमादेवी आर्य, सरोज बाला, शांति देवी, राज मुखीजा, श्रुतिभा आर्य, सविता आर्य, रेणू खत्री, डॉ जयन्त थरेजा, डॉ. राजेन्द्र चिटकारा, संजय अरोड़ा, सुनील आर्य, भरत अरोड़ा, विनोद तनेजा, अर्पित चिटकारा, श्रीमती ज्ञान चिटकारा, पूनम दरगन, आशा तनेजा, डॉ. अंजूरानी, डॉ. डी.सी. पाण्डेय, हरेन्द्र प्रकाश आर्य, रोहित आर्य, सहदेव आर्य, श्रीमती विजय चिटकारा, श्रीमती विद्यावती भुगड़ा, नरेन्द्र भुगड़ा, राजेन्द्र आर्य, रविन्द्र आर्य, प्रेरणा आर्य, दीप्ति आर्य एवं समस्त गढ़

संपर्क सूत्र प्रधान मंत्री 7014487811 9413912931

1. सब सत्य विद्या और जो पदार्थ विद्या से जाने जाते हैं उन सबका आदि मूल परमेश्वर है। 2. ईश्वर सच्चिदानन्द स्वरुप, निराकार, सर्वशक्तिमान, न्यायकारी, दयालु, अजन्मा, अनन्त, निर्विकार, अनादि, अनुपम, सर्वाधार, सर्वेश्वर, सर्वव्यापक, सर्वान्तर्यामी, अजर-अमर, अभय, नित्य पवित्र और सृष्टिकर्ता है। उसी की उपासना करनी योग्य है। 3. वेद सब सत्य विद्याओं की पुस्तक है। वेद का पढ़ना-पढ़ाना और सुनना-सुनाना सब आर्यों का परम धर्म है। 4. सत्य के ग्रहण करने और असत्य को त्यागने में सर्वदा उद्यत रहना चाहिए। 5. सब काम धर्मानुसार अर्थात् सत्य और असत्य को विचार कर करने चाहिए। 6. संसार का उपकार करना आर्य समाज का मुख्य उद्देश्य है अर्थात् शारीरिक, आत्मिक और सामाजिक उन्नति करना। 7. सबसे प्रीति पूर्वक धर्मानुसार यथायोग्य वर्तना चाहिए। 8. अविद्या का नाश और विद्या की वृद्धि करनी चाहिए। 9. प्रत्येक को अपनी ही उन्नति से सन्तुष्ट न रहना चाहिए किन्तु सब की उन्नति में अपनी उन्नति समझनी चाहिए। 10. सब मनुष्यों को सामाजिक सर्व हितकारी नियम पालने में परतन्त्र रहना चाहिए और मनोक हितकारी नियम में सब स्वतन्न रहें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here