प्रभु सारी दुनिया से ऊंची तेरी शान है

0
5

🙏 आज का वैदिक भजन 🙏

प्रभु सारी दुनिया से ऊंची तेरी शान है
कितना महान है तू कितना महान है २

यहां वहां कोने कोने तू ही मशहूर है
निकट से निकट और दूर से भी दूर है २
तुझ में समाया हुआ सकल जहान है
कितना महान है तू कितना महान है २
प्रभु सारी… कितना महान है तू…

तू ही एक मालिक है सारी कायनात का
फूलों भरी क्यारियों का तारों की जमात का २
तेरी ही ज़मीन है ये तेरा आसमान है
कितना महान है तू कितना महान है २
प्रभु सारी… कितना महान है तू…

सबने जो रंग देखे सभी तेरे रंग हैं
जग में अनेक तेरे पालने के ढंग हैं २
तुझ को छोड़े बड़े सबका ही ध्यान है
कितना महान है तू कितना महान है २
प्रभु सारी… कितना महान है तू…

जितने भी दुनिया में जीव देहधारी हैं
सभी तेरे प्यार के समान अधिकारी हैं २
‘पथिक’ सभी को दिया तूने वरदान है
कितना महान है तू कितना महान है २
प्रभु सारी… कितना महान है तू…

स्वर एवं रचना – सत्यपाल पथिक (वैदिक भजनोपदेशक)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here