जीवन का बन्धन व मोक्ष

0
3

जीवन का बन्धन व मोक्ष


लेखक :- डॉ. प्रताप सिंह कुण्डु आयुर्वेदाचार्य
स्त्रोत :- भक्त फूलसिंह कन्या महाविद्यालय स्मारिका


आयुर्वेद के सुविख्यात ग्रन्थ चरक में एक स्थान पर प्रश्न है कि ” आत्मा सदा करनुबध्यते ? ” च.शा. २/२८ अर्थात् ( मोक्ष को छोड़ कर ) आत्मा सदा किन भावों के साथ बंधी रहती है ? इसी अध्याय में इस प्रश्न का उत्तर देते हुए शास्त्रकार कहता है:
अतीन्द्रियैस्तैरतिसूक्ष्मरूपैरात्मा कदाचिन्न वियुक्तरूपः ।
न कर्मणा नैव मनोमतिभ्यां न चाप्यहङ्कारविकारदोषः ।। च.शा. २/३६

अर्थात आत्मा का कर्म , मन , बुद्धि , अहंकार और अहंकार के विकार रूप दोषों के साथ सदा बन्धन रहता है, आत्मा इन भावों के साथ सदा क्यों बंधी रहती है , इसका स्पष्टीकरण भी इस अध्याय में दिया है –
रजस्तमोभ्यां हि मनोऽनुबद्धं ज्ञानं विना तत्र हि सर्वदोषाः ।
गतिप्रवृत्त्योस्तु निमित्तमुक्तं मनः सदोषं बलवच्च कर्म ।। च.शा .२ / ३०

अर्थात् जब तक मन रज और तम से बंधा है या रज और तम का उद्रेक रहता है तो मनुष्य को ज्ञान नहीं होता और ज्ञान न होना ही सब दोषों का कारण है । जीव शुभ – अशुभ दोनों प्रकार के कर्म करता चला जाता है और इन कर्मों के भोग भोगने के लिये जन्म – मरण के बन्धन में बंधता चला जाता है जब तक कि मोक्ष न हो जाये । उपनिषद् के शब्दों में अकामचार सदा बन्धनों में बंधते है तथा कामचार बन्धनों से मुक्त रहते हैं । साराँश में शुभाशुभ जन्मजन्मान्तर के कर्मों के परिणामस्वरूप जीव वरूण के पाशों द्वारा बन्धन में बंधा रहता है , यथा कहा भी है
ये ते शतं वरूण ये सहस्त्रं यज्ञियाः पाशा वितता महान्तः “
कात्यायन श्रो . २५/१/१०

जीवन के 5 क्लेश ( Five impediments of life – अविद्या ( Illusion ) , अस्मिता ( Self conciousness ) ; राग ( Attachment ) , द्वेष ( Aversion ) , अभिनिवेश ( Death or yearning for life ) तथा ऋषि पतञ्जलि द्वारा योगदर्शन में वर्णित 9 अन्तरायों ( विघ्नों – Obstacles or distractors of mind ) के द्वारा भी जीव जन्म – मरण के बन्धन में बंधा रहता है । अब प्रश्न उठता है कि क्या इस बन्धन से छूटने या मृत्यु से बचने का कोई उपाय नहीं ? उपाय है , आइये विचार करें । महर्षि पतञ्जलि के महाभाष्य में वेदों के सम्बन्ध में उद्धृत यह कथन आँखें खोलने के लिये पर्याप्त है कि


एकः शब्दः सम्यग् ज्ञातः सुप्रयुक्तः स्वर्गे लोके कामधुग् भवति
विकास की दो दिशाएँ मानी जाती है भौतिक विकास , आध्यात्मिक विकास शिश्नोदर – परायण भौतिक विकास से यदि यह समस्या सुलझती तो फिर संसार में दुःख व अशान्ति का साम्राज्य क्यों व्याप्त है ? उत्तर सहज , सीधा व सटीक है कि आध्यात्मिकतावादी संस्कृति ( जिसका स्रोत वेद है ) को अपनाये बिना मनुष्य , समाज या सम्पूर्ण मानवता का पिण्ड दुःखों या अशान्ति से छूटने वाला नहीं है और न ही जीवन – मरण का बन्धन टूटने वाला क्योंकि मात्र वैदिक संस्कृति ही सार्वभौम संस्कृति है तथा वेदों का ज्ञान त्रैकालिक सत्य है क्योंकि वेद ईश्वर की शक्ति से प्रसूत है । वेदमार्तण्ड आचार्य प्रियव्रत के शब्दों में ” वेद ही वास्तव में वह गंगोत्री है जहाँ से वैदिक या भारतीय संस्कृति की गंगा प्रवाहित होती है । वरूण के पाशों द्वारा जन्म – मरण के बन्धन में बंधा जीव यजुर्वेद के शब्दों में देवरहित आयु के द्वारा छूट सकता है । वहाँ कहा है –


भद्रं कर्णेभिः शृणुयाम् भद्रं पश्येमाक्षभिर्यजत्राः ।
स्थिरैरङ्गैस्तुष्टुवांसस्तनूभिर्व्यशेमहि देवहितं यदायुः ।।
यजुर्वेद २५/११

जीवन के 5 क्लेशों वा जीवन – मृत्यु के बन्धन से छूटने का उपाय उपनिषद्कार ने इस प्रकार बतलाया है
एतदालम्बनं श्रेष्ठं एतदालम्बनं परम् ।
एतदालम्बनं ज्ञात्वा ब्रह्मलोके महीयते ।।
कठोपनिषद् १/२/१७

अथर्ववेद के शब्दों में जन्म – मरण के बन्धन या मृत्यु के भय से मुक्ति दिलाने वाला हमारा प्यारा पिता परमेश्वर है । यथा •
अकामो धीरो अमृतः स्वयम्भू र सेन तृप्तो न कुतश्चनोनः ।
तमेव विद्वान् न विभाय मृत्योरानं धीरमजर युवानम् ।।
अथर्ववेद १०/८/४४

योगदर्शन में वर्णित नौ अन्तरायों
व्याधि स्त्यान संशयः प्रमादालस्याविरतिभ्रान्ति
दर्शनालब्धभूमिकत्वानवस्थितत्वानि चित्तविक्षेपास्तेऽन्तरायाः ।
योग दर्शन १/३०

के कारण जीवन – मृत्यु के बन्धन से बचने वा ब्रह्मलक्ष्य को भेदने की धनुर्विद्या मुण्डक में निम्न शब्दों में दी है :
धनुर्गृहीत्वौपनिषदं महास्त्रं शरं ह्युपासा निशितं सन्धीयत ।
आयम्य तद् भावगतेन चेतसा लक्ष्यं तदेवाक्षरं सौम्य विद्धि ।।
मुण्डकोपनिषद् २ / २/

भला हो महान् द्रष्टा प्राज्ञचक्षु स्वामी विरजानन्द के अद्वितीय शिष्य तथा वर्तमान कलियुग के एकमात्र ऋषि देव दयान का जिन्होंने वेद – ज्ञान की पुनर्स्थापना की तथा अपने अमर ग्रन्थ ” सत्यार्थ प्रकाश ” के माध्यम से हमें यह बताया कि संस में सर्वोत्तम जीवन यापन करने का जन्म – मरण के बन्धन से छूटने का एकमेव उपाय अपरा विद्या व परा विद्या का सामञ्जस्य है अर्थात् कर्मकाण्ड व ज्ञानकाण्ड के सामञ्जस्य से ही दुस्तुर सांसारिक भवसागर का पार पाया जा सकता है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here