बालिका चरित्र निर्माण, आत्मरक्षा एवं वैदिक सिद्धान्त परिचय शिविर

0
113

अहं केतुरहं मूर्धाऽहमुग्रा विवाचनी

अर्थ-मैं ही राष्ट्र की ध्वजा हूँ, मैं ही समाज का मस्तिष्क हूँ, मैं ही तेजस्विनी हूँ

विरजानन्द राष्ट्रीय शिक्षण संस्थान द्वारा संचालित

गार्गी कन्या गुरुकुल महाविद्यालय चामड़ भैंयाँ, इगलास (अलीगढ़) उ० प्र० पिन-202124

बालिका चरित्र निर्माण, आत्मरक्षा एवं वैदिक सिद्धान्त परिचय शिविर

शनिवार, 1 जून 2024 से शुक्रवार, 7 जून 2024 तक

गार्गी कन्या गुरुकुल के द्वारा उपरोक्त तिथियों में कन्याओं के लिए सात दिवसीय शिविर का आयोजन किया जा रहा है। इस शिविर में कन्याओं को आत्मरक्षा के उपाय, जूड़ो कराटे, लाठी, शरीर निर्माण कला, आत्मिक व आध्यात्मिक विकास के साधन, वैदिक सिद्धान्तों का परिचय, ध्यान, यज्ञ, व्यायाम-आसन आदि प्रशिक्षण दिया जायेगा। अपनी प्रिय पुत्रियों को भारतीय संस्कारों से ओतप्रोत एवं सबल नारी बनाने के लिए शिविर में प्रतिभाग अवश्य करायें।

आमन्त्रित विद्वगण :

  • आचार्या-व्रतिका आर्या, संचालिका सार्वदेशिक आर्य वीरांगना दल
  • आचार्य पंकज आर्य, प्रान्तीय संचालक आर्यवीर दल उत्तर प्रदेश
  • आचार्य अरुण कुमार आर्यवीर, मुम्बई

स्वामी केवलानन्द सरस्वती शिविराध्यक्ष

स्वामी चेतन देव वैश्वानर शिविर संचालक एवं प्रबन्धक

डॉ० राजवीर सिंह शास्त्री, दिल्ली संरक्षक

डॉ० मनु आर्या शिविर संयोजिका

निवेदक :

हरिमोहन सेठ (इगलास) संरक्षक 8859997522

भूपेन्द्र सिंह (हाथरस) प्रधान 8279914403

चौ० सुरेश (अलीगढ़) मंत्री 9927025226

योगेश अग्रवाल (इगलास) कोषाध्यक्ष 9411053545

निर्देश:

•शिविरार्थियों का सामान कापी, पेन, सादे वस्त्र, चादर, सफेद जूते, सफेद कुर्ती सलवार, टार्च, नारंगी दुपट्टा

• शिविरार्थी की आयु 10 वर्ष से अधिक हो। अपने साथ कीमती सामान मोबाइल आदि न लायें।

  • शिविर शुल्क 200 रुपये रहेगा।
  • शिविर स्थल पर 31 मई को सायं 4 बजे तक अवश्य पहुँच जायें।
  • शिविर में भाग लेने के इच्छुक अपना पंजीकरण 25 मई तक अवश्य करायें।

आचार्यागण-आचार्या कीर्ति आर्या, आचार्या कोमल आर्या, आचार्या प्रवेश आर्या पंजीकरण एवं अन्य जानकारी हेतु

सम्पर्क सूत्र 9410426199, 9411879561, 9627568677 मार्ग निर्देश : इगलास गौण्डा के बीच भैया की पुलिया पर उतर कर भैया चामड़ व निधौली के मध्य बसुआ क्षेत्र में पहुंचे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here