श्रीमदभग्वदगीता का वैदिक उपदेश

0
0

श्रीमदभग्वदगीता का वैदिक उपदेश :–

ईश्वर का स्वरूप :-

• सर्वतः पाणिपादं तत्सर्वतोऽक्षिशिरोमुखम् ।सर्वतः श्रुतिमल्लोके सर्वमावृत्य तिष्ठति ।। ( 13/13 ) ईश्वर सर्वव्यापक है । सब ओर उसके हाथ पैर हैं । वह सब जगह देखता और सुनता है ।

• अक्षरं ब्रह्म परमं स्वभावोऽध्यात्मुच्यते । भूतभावादोभ्दवकरो विसर्गः कर्मसंज्ञितः ।। (8/3)ईश्वर जन्म और मृत्यु से परे है । वह अवतार नहीं लेता ।

• बहिरन्तश्च भूतानामचरं चरमेव च ।सूक्ष्मत्वात्तदविज्ञेयं दूरस्थं चान्तिके च तत् ।। (13/15)ईश्वर अत्यन्तसूक्ष्म होने से बाहर की आँख आदि इन्द्रियों से जानने योग्य नहीं है । ईश्वर न आता है न ही कहीं जाता है । क्योंकि वह दूर तथा पास स्थानों पर विद्यमान है, वह निराकार होने से दिखाई नहीं देता ।

• यया धर्ममधर्म च कार्य चाकार्यमेव च । अयाथावत्प्रजानाति बुद्धिः सा पार्थ राजसी ।। ( 18/13 ) हे अर्जुण ! यदि तूँ इस निराकार अत्यन्त सूक्ष्म और सर्वव्यापक ईश्वर को जानना चाहता है तो अपने हृदय में ही ध्यान करके जान सकता है, क्योंकि वह बाहर नहीं मिल सकता । वह वहीं मिलता है जहाँ आत्मा भी हो, दोनों का वास हृदय में ही है बाहर नहीं ।

• ईश्वर सर्वभूतानां हृद्देशेऽर्जुन तिष्ठति ।भ्रामयन्सर्वभूतानि यन्त्रारुढानि मायया ।। (18/61) हे अर्जुण ! वह परमात्मा ही व्याप्त होकर अपनी निराकार शक्तियों से इस संसार को यन्त्र के समान चलाता है ।

• तमेव शरणं गच्छ सर्वभावेन भारत ।तत्प्रसादात्परां शान्तिस्थानं प्राप्स्यसिशाश्वतम् ।। (18/62) हे अर्जुण ! उसी निराकार सर्वव्यापक संसार को बनाने तथा चलाने वाले की शरण में पूर्ण भावना सहित जा । उसकी शरण में जाने से सर्वोत्तम शांती तथा शाश्वत सुख मिल सकता है । ( तमेव शब्द सिद्ध करता है कि कृष्ण ईश्वर से भिन्न हैं )

https://aryasamaj.site/2023/02/22/ketur-ki-rani-chennamma/

https://aryasamaj.site/2023/02/22/swaraj-aur-sushasan-ke-pravartak-chhatrapati-shivaji-maharaj/

https://aryasamaj.site/2023/02/21/matrabhasha-ko-matra-bhasha-na-samjho/

https://aryasamaj.site/2023/02/22/raja-jaisingh-ke-naam-shivaji-ka-patra/

https://aryasamaj.site/2023/02/21/swami-dayanand-saraswati-aur-professor-max-muller/

https://aryasamaj.site/2023/02/21/vikraal-hote-love-jihad/

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here